Welcome to Betul Visarat

हमारी विरासत ही हमारी पहचान

Welcome to Betul Visarat

हमारी विरासत ही हमारी पहचान

Welcome to Betul Visarat

हमारी विरासत ही हमारी पहचान

Members that contribute for Betul Virasat Charity

Join today to preserve our culture together with our Betul heritage.

  • साधारण सदस्य ₹ 120/-

    राहुल वडुकले

    Madhya Pradesh,

    Ajay Parihar

    Madhya Pradesh,

    Ajay Parihar

    Madhya Pradesh,

    rahul pardhe

    Madhya Pradesh,

    shubham ghodpage

    Madhya Pradesh, ASW GROUP

    Rahul goyar

    Madhya Pradesh,

    Sitaram pawar

    Madhya Pradesh,

    Sitaram pawar

    Madhya Pradesh,
    सदस्य बने
  • आजीवन सदस्य ₹ 1200/-

    rahul pardhe

    Madhya Pradesh,

    shubham ghodpage

    Madhya Pradesh, ASW GROUP
    सदस्य बने
  • दान दाता सूचि

    betul virasat

    Madhya Pradesh,

    shubham ghodpage

    Madhya Pradesh, ASW GROUP

    shubham ghodpage

    Madhya Pradesh, ASW GROUP

    shubham ghodpage

    Madhya Pradesh, ASW GROUP

    shubham ghodpage

    Madhya Pradesh, ASW GROUP

    shubham ghodpage

    Madhya Pradesh, ASW GROUP

    shubham ghodpage

    Madhya Pradesh, ASW GROUP

    shubham ghodpage

    Madhya Pradesh, ASW GROUP

    shubham ghodpage

    Madhya Pradesh, ASW GROUP

    shubham ghodpage

    Madhya Pradesh, ASW GROUP

    Raju

    Madhya Pradesh,
    दान करे

Members Betul Virasat

Chandan Barkhade

Praveen kamdee

Chandan Barkhade

Sohan kodle

Devendra

राहुल वडुकले

Kirti yadav

Yogesh Malviya

Dilip kadve

Santosh Pawar

Sangeeta Deshmukh

Lakhan lal pawar

Kamlesh bhade

Sitaram pawar

Vikas pawar

Ajay Parihar

Bhavesh chadokar

Adarsh Sonakpuriya

Nitin

Jitendra Singh thakur

Vishwamitra

Ajay Parihar

Rahul goyar

Ravindra deshmukh

Ramesh Pawar

Rahul sahu

Makhan pawar

Dheeraj

betul virasat

Raju

Manoj kamdi

Bhopu vanjare

Balram pawar

rahul pardhe

shubham ghodpage

Welcome to Betul Virasat

About Us

भारत की संस्कृति बहुआयामी है जिसमें भारत का महान इतिहास, विलक्षण भूगोल और सिन्धु घाटी की सभ्यता के दौरान बनी और आगे चलकर वैदिक युग में विकसित हुई, बौद्ध धर्म एवं स्वर्ण युग की शुरुआत और उसके अस्तगमन के साथ फली-फूली अपनी खुद की प्राचीन विरासत शामिल हैं। इसके साथ ही पड़ोसी देशों के रिवाज़, परम्पराओं और विचारों का भी इसमें समावेश है। पिछली पाँच सहस्राब्दियों से अधिक समय से भारत के रीति-रिवाज़, भाषाएँ, प्रथाएँ और परम्पराएँ इसके एक-दूसरे से परस्पर सम्बंधों में महान विविधताओं का एक अद्वितीय उदाहरण देती हैं। भारत कई धार्मिक प्रणालियों, जैसे कि सनातन धर्म, जैन धर्म, बौद्ध धर्म और सिख धर्म, सिंधी धर्म धर्मों का जनक है।

  • संस्कृति

    यह संसार की प्राचीनतम संस्कृतियों में से एक है। भारतीय संस्कृति कर्म प्रधान संस्कृति है। मोहनजोदड़ो की खुदाई के बाद से यह मिस्र, मेसोपोटेमिया की सबसे पुरानी सभ्यताओं के समकालीन समझी जाने लगी है।

  • भाषा

    भारत में बोली जाने वाली भाषाओं की बड़ी संख्या ने यहाँ की संस्कृति और पारंपरिक विविधता को बढ़ाया है। 1000 (यदि आप प्रादेशिक बोलियों और प्रादेशिक शब्दों को गिनें तो, जबकि यदि आप उन्हें नहीं गिनते हैं तो ये संख्या घट कर 216 रह जाती है)

  • धर्म

    अब्राहमिक के बाद भारतीय धर्म विश्व के धर्मों में प्रमुख है, जिसमें हिन्दू धर्म, बौद्ध धर्म, सिख धर्म, जैन धर्म, आदि जैसे धर्म शामिल हैं। आज, हिन्दू धर्म और बौद्ध धर्म क्रमशः दुनिया में तीसरे और चौथे सबसे बड़े धर्म हैं, जिनमें लगभग १.४ अरब अनुयायी साथ हैं।

Read More

बैतूल विसरत के सदस्य बने |

Founder Members

Betul Virasat Commitee

हमारे बैतूल विरासत समिति के सदस्य की सूचि |

Discover More
  • 00

    कुल राशि

  • 00

    सदारन सदस्य

  • 00

    अजीवन सदस्य

  • 00

    कुल सदस्य

News & articles

Directly from the
latest news and articles

अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर बड़केश्वर मंदिर में हुआ भंडारा

मंदिर परिसर को अयोध्या के समान सजाया फोटो - बैत

24-Jan-2024

ईनामी जस प्रतियोगिता में शामिल हुए राजू अनुराग पवार

रविवार 14 जनवरी को बर्राई में ईनामी जस प्रतियोगिता

16-Jan-2024

ईनामी जस प्रतियोगिता में शामिल हुए चंद्रशेखर देशमुख

रविवार 14 jan को बर्राई में ईनामी जस प्रतियोगिता म

16-Jan-2024

आज सेमझिरा में श्री राम कथा श्रवण करने राजू अनुराग पहुंचे

आज सेमझिरा में श्री राम कथा श्रवण करने राजू अनुराग

14-Jan-2024

सीए की परीक्षा उत्तीर्ण करने पर श्रावक संघ ने किया अपूर्वी का सम्मान

बैतूल। स्व.जवाहरलाल पगारिया की पौत्री एवं सराफा व्

13-Jan-2024

अयोध्या से आये पूजित अक्षत और निमंत्रण पत्र किए वितरित

22 जनवरी को मोहल्ले में दीवाली मनाने की अपील बैतू

09-Jan-2024